बिहार का एक ऐसा सरकारी स्कूल जहाँ से निकलते हैं सिर्फ टॉपर्स।

By


क्या आपने बिहार के सिमुलतला का नाम सुना हैं … बहुत ही सुन्दर शहर हैं ये। एक अलग महक हैं इसके हवाओ में। पढाई लिखे के मामले में सिमुलतला ने एक अलग ही मिसाल कायम की हैं। यहाँ का सिमुलतला आवासीय विद्यालय का नाम सिर्फ बिहार में गई नहीं बल्कि पुरे देश में बुलंद हैं। मेट्रिक और इंटर की परीक्षा में तो यहाँ के विद्यार्थियों के लिए टॉप होना आम बात हैं। नेतरहाट स्कूल के बारे में अगर आप जानते होंगे तो इस बा तक अंदाज़ा लगा सकते हैं आप। क्योंकि सिमुलतला आवासीय स्कूल का निर्माण नेतरहाट स्कूल के तर्ज़ पे ही हुआ हैं। साल 2000 में बार के विभाजन के वजह से नेतरहाट स्कूल झारखण्ड में चला गया। यह स्कूल सरकारी व्यवस्था का सर्वश्रेष्ठ उदहारण रहा हैं।


विभाजन में अलग होने के बाद, उसी की कमी को पूरा करने के लिए सिमुलतला स्कूल की निब राखी गयी। सिमुलतला ने नेतरहाट के गौरव को आगे बढ़ाते हुए टॉपर्स की बढ़ ला दी हैं। इस साल IIT में सिर्फ इस स्कूल से २० छात्र चुने गए हैं। जल्द ही IAS में भी नए परचम लहराने को तैयार हैं ये स्कूल।
2005 में मुख्यमत्री नितीश कुमार के प्रयास से इस स्कूल के निर्माण की शुरुवात हुई। 2009 तक भी इस स्कूल की संतोषजनक रूप रेखा तैयार नहीं हुई…तब नेतरहाट के कुछ पूर्ववर्ती छात्रों से मिलकर इसका अंतिम ब्लू प्रिंट तैयार हुआ और स्थापना शुरू हुई। शिक्षा के लिए शांति की बहुत जरूरत हैं…इसीलिए जंगलो की बिच मनोरम सिमुलतला को चुना गया। यहाँ स्थान झाझा स्टेशन से कुछ 19 हैं। शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी हैं।

You Might Like These

Leave a Comment