विकाश हमनी के चाही की ना , अपने आप से पूछी।

By

विकाश हमनी के चाही की ना , अपने  आप से पूछी।


बहुत सारे लोग इस पोस्ट को अनदेखा कर आगे बढ़ जाएंगे ये सोच कर कि हमें इससे क्या लेना। लेकिन मैं बता दूं सरकार द्वारा खर्च किया हुआ एक एक रूपया आपही के पाकेट से निकला हुआ है।
बहुत लोग ये बोलते हुए पाएं जाते हैं कि सरकार कुछ नहीं कर रही है ये वही लोग हैं जो इस फोटो में escalator के नीचे थूक कर चले जाते हैं। इन लोगों की निजी जिंदगी के बारे में आप इन्हें बिना देखे अंदाजा लगा सकते हैं, जैसें कि इनकी घर में कितनी सफाई होगी। ये पूरे सफ़र पान, खैनी, गुटखा से मुंह को भरे रखते हैं। इन्हें ना घर वालें और ना बाहर वाले पूछते हैं फिर भी अपनी तारीफ़ खुद ही कर लेते हैं। ऐसे लोग सिर्फ दुसरो की गलतियां निकालते रहते हैं। ऐसे लोग छोटी छोटी बात पे भी सड़क पे उतर आते हैं और तोड़ फोड़ करने लगते हैं।
ऐसे ही लोगों की वजह से आज हम इतने पिछड़े हैं। इस गंदगी को साफ करवाने के लिए भी जो खर्च उठेगा वो आप हीं के जेब से जाएगा।
इसीलिए आपसे मैं निवेदन है कि इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि हमारी बात ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास पहुंच सके।

You Might Like These

Leave a Comment