क्या आपको पता है, सड़क किनारे लगे हुए माइलस्टोन का रंग अलग-अलग क्यों होता है?

By

शहर के शोरगुल से दूर साफ सुथरी चौड़ी सड़क पर लॉन्ग ड्राइव का अपना ही मजा है। वैसे क्या आपने कभी ध्यान दिया है कि इन हाईवे पर चलते वक्त सड़क किनारे लगे हुए माइलस्टोन लगातार अपना रंग बदलते रहते हैं। आइए जानिए इन मील के पत्‍थरों के बारे में।

1. पीले रंग का माइलस्टोन

रोड पर  ड्राइव के दौरान अगर आपको सड़क किनारे पीले रंग का माइलस्टोन नजर आता है, तो जान लीजिए कि आप किसी नेशनल हाईवे पर चल रहे हैं। जानने वाली बात यह है की पीले रंग का माइलस्टोन भारत में सिर्फ नेशनल हाईवेज पर ही लगाए जाते हैं।

2. हरे रंग का माइलस्टोन

रोड पर जब आपको माइलस्टोन की ऊपरी पट्टी हरे रंग की दिखाई दे तो जान लीजिए कि आप नेशनल हाईवे नहीं बनती स्टेट हाईवे पर सफर कर रहे हैं।

3. काले रंग की पट्टी वाला माइलस्टोन

सफर के दौरान यदि आपको सड़क पर काली पट्टी वाला माइलस्टोन दिखाई दे। तो समझ जाइए कि आप किसी बड़े शहर या जिले की और बढ़ रहे हैं। साथ ही वह रोड आने वाले जिले के नियंत्रण में आती है। कई जगहों पर शहरी सीमा में आने वाली सड़कों के किनारे पूरी तरह सफेद रंग वाले माइलस्टोन भी लगे होते हैं।

4. नारंगी रंग की पट्टी वाले माइलस्टोन

देशभर में ग्रामीण इलाकों से गुजरते वक्त आपको तमाम सड़कों पर ऑरेंज कलर की पट्टी वाले मील के पत्थर या साइनबोर्ड दिखाई पड़ जाएंगे। इन्हें देखकर आप आसानी से जान पाएंगे कि वह सड़क प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत बनाई गई है।

अगली बार जब भी सफर पर निकलेंगे तो ये मील के पत्‍थर आपको दूरी के अलावा भी बहुत कुछ बताते चलेंगे। क्‍यों हैं ना?
आगे पढ़िए : रेलवे बोर्ड पर काहे लिखल जाला ‘समुद्र तल से ऊंचाई?

You Might Like These

Leave a Comment